बुलेट ट्रेन से भी तेज़ मात्र 4 घंटों में वंदे भारत ट्रेन तय कर सकती है हज़ारों KM का सफर

Breaking News

देश में रेलवे को लगातार अपग्रेड करने का काम किया जा रहा है । इसी के लिए देश में वंदे भारत ट्रेन के संचालन को शुरू कर दिया गया है । इस ट्रेन को देश की हाईस्पीड ट्रेन माना जाता है । फिलहाल दो ही रूटों पर इस ट्रेन का संचालन किया जा रहा है लेकिन जल्द ही कई अन्य रूटों पर भी वंदे भारत ट्रेन का संचालन शुरू कर दिया जाएगा। बताया जा रहा है कि वंदे भारत ट्रेन की खासियतों के आगे बुलेट ट्रेन अभी फेल है । जानकारी के अनुसार वंदे भारत ट्रेन शून्य से 100 किमी की रफ्तार तक पहुँचने में बुलेट ट्रेन से भी कम समय लगाती है । अब लगातार इस ट्रेन के मॉडल को स्पीड के साथ अपग्रेड किया जा रहा है । जल्द ही वंदे भारत ट्रेन से हजारों किमी का सफर कुछ ही घंटों में तय किया जा सकेगा ।

बुलेट ट्रेन से भी तेज दौड़ने वाली है वंदे भारत ट्रेन

देश में वंदे भारत ट्रेन के संचालन पर ज़ोर दिया जा रहा है । जल्द ही देश में सैंकड़ों वंदे भारत ट्रेन चलती हुई नज़र आने वाली हैं । 15 अगस्त के मौके पर एक और वंदे भारत ट्रेन को शुरू किया जा सकता है । वहीं वंदे भारत ट्रेन को बुलेट ट्रेन से भी ज्यादा खास बताया जा रहा है । बुलेट ट्रेन को शून्य से 100 किमी की रफ्तार तक पहुँचने में55.4 सेकेंड का समय लगता है जबकि वंदे भारत को मात्र 54 सेकेंड का समय लगता है ।

इतने कम समय में वंदे भारत शून्य से 100 किमी की रफ्तार से चलने लगती है । बुलेट ट्रेन में सिर्फ आगे इंजन में एक मोटर होती है जो इसकी स्पीड को बढ़ाने में मदद करती है जबकि वंदे भारत ट्रेन में 16 कोच हैं और इसके 5 कोच में मोटर लगी हुई है जो इसे रफ्तार से चलाने में मदद करती है । कहा जा रहा है कि आने वाले समय में ये स्वदेशी वंदे भारत ट्रेन बुलेट ट्रेन से भी तेज दौड़ने वाली है ।

वंदे भारत ट्रेन को किया जा रहा है अपग्रेड

अभी दो रूटों पर इस ट्रेन को चलाया जा रहा है जिनकी गति 160 किमी प्रतिघंटा है । वहीं नए वर्जन में 180 किमी प्रतिघंटा किया जाने वाला है । इसके बाद 2025 तक इस ट्रेन की स्पीड को 260 किमी प्रतिघंटे कर दिया जाएगा । इस ट्रेन से 1 हज़ार किमी का सफर भी 4- 5 घंटे में तय किया जा सकेगा । रेलवे का उद्देश्य देश में 400 वंदे भारत ट्रेनों को चलाने का है जिस पर तेजी से काम चल रहा है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.