इस तरह काम करती है डीएमआरसी! दो महीने पहले दिल्ली मेट्रो ने किया था गलती, अब दिल्ली मेट्रो ने बदला साइनेज

#DELHI Breaking News CRIME INDIA Technology TRAVEL

इस तरह काम करती है डीएमआरसी! दो महीने पहले दिल्ली मेट्रो ने किया था गलती, अब दिल्ली मेट्रो ने बदला साइनेज

dmrc

नई दिल्ली: एक ट्वीट में दिखाया जाएगा कि दिल्ली में लोगों की सलाह और सुझावों पर मेट्रो कितनी तत्परता से काम करती है। एक यूजर ने दो महीने पहले हेल्पलाइन नंबर की गलती बताई थी। डीएमआरसी को इस गलती को सुधारने में दो महीने से अधिक का समय लगा।दिल्ली मेट्रो यात्रियों की सुविधा के लिए हमेशा सक्रिय रहती है।

विस्तार

एक ट्वीट में दिखाया जाएगा कि दिल्ली में लोगों की सलाह और सुझावों पर मेट्रो कितनी तत्परता से काम करती है। एक यूजर ने दो महीने पहले हेल्पलाइन नंबर की गलती बताई थी। डीएमआरसी को इस गलती को सुधारने में दो महीने से अधिक का समय लगा।दिल्ली मेट्रो यात्रियों की सुविधा के लिए हमेशा सक्रिय रहती है। मेट्रो यात्रियों की शिकायतों और सुझावों पर दिल्ली मेट्रो त्वरित कार्रवाई की बात करती है। हालांकि, एक ऐसा मामला सामने आया है जिसमें स्थिति बिल्कुल विपरीत है। दिल्ली मेट्रो में कोच के अंदर लगे साइनेज में दिल्ली पुलिस की हेल्पलाइन का नंबर बदल गया है। दिल्ली पुलिस की हेल्पलाइन अब 100 से बदलकर 112 कर दी गई है। वहीं, दिल्ली मेट्रो के कोच में पुराना साइनेज लगाया गया था। एक यात्री ने अपनी गलती बताते हुए डीएमआरसी को ट्वीट किया।

19 अगस्त को किया था ट्वीट

dmrc

यूजर ने ट्वीट में लिखा, ‘दिल्ली मेट्रो आपको सूचित करना चाहती है कि दिल्ली पुलिस की मदद लेने के लिए 100 नंबर से 112 नंबर बदला गया है। कृपया इस जानकारी को मेट्रो के अंदर अपडेट करें और इसे लगाएं। यूजर ने इस ट्वीट को डीएमआरसी के साथ-साथ दिल्ली पुलिस को भी टैग किया। यह ट्वीट यूजर ने 19 अगस्त को किया था।

दो महीने बाद दिल्ली मेट्रो का जवाब

See the source image

अब इसे दिल्ली मेट्रो की लेटनेस कहें या फेस्टिव सीजन की व्यस्तता कि साइनेज बदलने में दो महीने से ज्यादा का वक्त लग गया। 25 अक्टूबर को दिल्ली मेट्रो ने ट्वीट किया कि मेट्रो कोच का साइनेज बदल दिया गया है। हालांकि यूजर ने इस देरी के लिए दिल्ली मेट्रो को कुछ नहीं बताया। इसके उलट उसने इस बदलाव के लिए दिल्ली मेट्रो का शुक्रिया अदा किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *