दिल्ली मेट्रो में मिला बम विस्फोट का लेटर, अवैध सम्बन्ध वाले प्रेमी को फंसाने के लिए रचा कारनामा

Breaking News

फरीदाबाद पुलिस ने हाल ही में उस व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया है जिसने फरीदाबाद के सराया मेट्रो स्टेशन पर एस्केलेटर पर बम विस्फोट करने का खत छोड़ा था| बता दे की जैसे ही एक यात्री को यह पत्र मिला उसने इसे तुरंत ही केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के कर्मचारियों के हवाले कर दिया| जिसके बाद उस व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया| बता दे की यह हरकत मुरादाबाद के एक निवासी रामबीर सिंह जो की इस वक़्त 21 साल का है के द्वारा की गयी है| यह व्यक्ति एक फैक्ट्री में हेल्पर के तौर पर नियुक्त था|

मेट्रो में लेटर छोड़ने वाला शख्स गिरफ्तार

पता चला है की यह व्यक्ति फरीदाबाद आया और मेट्रो स्टेशन में धमकी भरा खत छोड़ गया| उसने खत में बदरपुर सीमा पुलिस चौकी, लाल किला, बदरपुर सीमा पर एक शराब की दुकान, सराय मेट्रो स्टेशन और एक सुपरमार्केट में विस्फोट करने की धमकी दी है| अपने खत में इस व्यक्ति ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को भी धमकी दी है।

आखिर क्यों दी इस व्यक्ति ने इस प्रकार की धमकी

पुलिस उपायुक्त (अपराध) मुकेश मल्होत्रा ने बताया है की पुलिस को रविवार को पत्र के बारे में बताया गया था, जिसके बाद वे बोलते हैं की, “हमारी टीमों को मेट्रो स्टेशन भेजा गया और खतरों की पुष्टि के लिए जांच सौंपी गई।” बता दे की मल्होत्रा का कहना है की टीमों द्वारा इस मेट्रो स्टेशन पर लगे सभी सीसीटीवी कैमरों की फुटेज देखि गयी, और वहाँ पर मौजूद यात्रियों को पूरी सुरक्षा दी जा रही है|

अपराधी रामबीर को गिरफ्तार करने वाले निरीक्षक सेठी मलिक ने बताया की “दो पेज हिंदी में लिखे गए थे और ए4 शीट पर एक नक्शा तैयार किया गया था। ऐसा लग रहा था कि किसी ने धमाकों के बारे में एक टीम को जानकारी देने के लिए पत्र लिखा है। इसे पेशेवर रूप से तैयार किया गया था और आपातकालीन संपर्क के रूप में एक नंबर का उल्लेख किया गया था। हमने उस नंबर पर कॉल किया और उस व्यक्ति को थाने आने के लिए कहने के बाद उससे पूछताछ की। वह पत्र या ऐसी किसी योजना से पूरी तरह अनजान थे”।

मलिक आगे बोलते हैं, “हमने उससे घंटों पूछताछ की, लेकिन वह हमें ऐसी कोई भी जानकारी नहीं दे पाया जो हमें संदिग्ध तक ले जा सके। हमने सीसीटीवी फुटेज में एक शख्स को देखा लेकिन वह उसकी पहचान नहीं कर सका। फुटेज में वह शख्स हरी चप्पल पहने नजर आ रहा था और उसका चेहरा मास्क से ढका हुआ था। आखिरकार, टोल प्लाजा संचालक ने कहा कि एक पूर्व सहयोगी के पति का हाल ही में उसके साथ झगड़ा हुआ था और उसका मकसद उसे फंसाना था। रामबीर को बुलाने पर उसने काफी देर तो कुछ नहीं बताया लेकिन फिर बोलने लगा की उसकी पत्नी का टोल प्लाजा के संचालक के साथ सम्बन्ध था|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *