दिल्ली में हर रोज़ होते हैं कम से कम 6 रेप, आप भी जानें अब तक के आंकड़ें

Breaking News

आये दिन देश भर से छेड़छाड़ और बलात्कार जैसी खबरें सुनने में आती रहती हैं| लेकिन बात करें देश की राजधानी दिल्ली की तो यहां यह आंकड़ा बहुत ही ज़्यादा गंभीरता से लेने का विषय है| बता दे की खबरों से पता चला है की दिल्ली में हर दिन करीब छह बलात्कार और सात छेड़छाड़ के मामले दर्ज दर्ज किये जाते हैं| बता दे की एक पुलिस अपराध रिपोर्ट के माध्यम से महिलाओं के खिलाफ इन अपराधों की संख्या में में बढ़ोतरी पायी गयी है। इस साल की बात करें तो अब तक राजधानी में कम से कम करीब 1100 से ज्यादा रेप के मामले सामने आ चुके हैं, जो ऑन रिकॉर्ड हैं. पुलिस की रिपोर्ट की मानें तो अब तक जनवरी से 15 जुलाई तक करीब छेड़छाड़ और मारपीट के 1,480 मामले दर्ज किए गए हैं।

महिलाओं के रेप से जुड़े मामले दिल्ली में काफी ज़्यादा हैं

बात करें साल 2021 की तो पिछले साल इस समय तक यह नंबर करीब 1,033 महिलाओं के प्रताड़ित होने का सामने आया था। बात करें इस साल के नम्बरों की तो 2021 की अपेक्षा यह नंबर करीब 6.48 फीसदी तक बड़ा है. खबरों के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी में इस वक्त तक करीब 2,200 महिलाओं का अपहरण हो चुका है, जो एक बार फिर से महिलाओं की सुरक्षा की दृष्टि से एक बहुत ही ज़्यादा चिंता करने का विषय है| आंकड़ों के हिसाब से, अब तक 2,197 महिलाओं का अपहरण हो चुका है, जो पिछले वर्ष के अब तक के आंकड़ों में काफी ज़्यादा है। साल 2021 की बात करें तो पूरे साल में 3,758 महिलाओं को इस चीज़ का सामना करना पड़ा है।

दहेज़ से पीड़ित महिलाओं के केस भी आये सामने

बात करें इस साल महिलाओं पर हुई पति या ससुराल द्वारा क्रूरता की तो अब तक 2,704 मामले सामने आ चुके हैं। बता दे की पिछले वर्ष यह आंकड़ा 2,096 था। यहां तक की दहेज़ के मामले से होने वाली इस हिंसा की वजह से बीते वर्ष यानी 2021 में 72 की तुलना में इस साल 69 महिलाओं के जीवन का दावा किया गया है।

महिलाओं की सुरक्षा के लिए सरकार दिन रात प्रयास कर रही है, बता दे की इसके लिया कई योजनाओं पर भी काम चल रहा है| लेकिन बता दे की बुरी खबर यह है कि यह राष्ट्रीय वाहन सुरक्षा और ट्रैकिंग प्रणाली और महिला हेल्पलाइन की स्थापना – महिलाओं पर हो रहे इन अत्याचारों को खत्म करने में विफल रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *